Jab Koi Bandar

Jab Koi Bandar

Shaam Hote Hi Yeh Dil Udaas Hota Hai,
Tute Khwabon Ke Siwa Kuchh Na Paas Hota Hai,
Tumhari Yaad Aise Waqt Bahut Aati Hai,
Jab Koi Bandar Aas-Paas Hota Hai.

शाम होते ही ये दिल उदास होता है,
टूटे ख्वाबों के सिवा कुछ न पास होता है,
तुम्हारी याद ऐसे वक़्त बहुत आती है,
जब कोई बंदर आस पास होता है।

Best Insult Shayari For Facebook

Iss Dil Ko To Ek Baar Ko,
Bahla Kar Chup Kara Lunga,
Par Iss Dimaag Ka Kya Karun,
Jiska Tumne Dahi Kar Diya Hai.

इस दिल को तो एक बार को,
बहला कर चुप करा लूँगा,
पर इस दिमाग का क्या करूँ,
जिसका तुमने दही कर दिया है।

Jee Karta Tere Paas Aaun,
Tere Paas Aa Ke Ruk Jaaun,
Na Baithu, Na Bulun,
Ab Teri In Madhosh Aankhon Me,
Santre Ka Chhila Nichod Ke Bhag Jaaun.

जी करता हैं तेरे पास आउँ,
तेरे पास आकर रूक जाउँ,
न बैठू, न बोलूँ
अब तेरी इन मदहोश आँखों में,
संतरे का छिलका निचोड़ के भाग जाउँ।

Leave a Comment