Jabt-e-Gam Koyi

Jabt-e-Gam Koyi

Jabt-e-Gam Koyi Aasaan Kaam Nahi Faraaz,
Aag Hote Hain Wo Aansu Jo Piye Jaate Hain.

जब्त-ए-गम कोई आसमान काम नहीं फ़राज़,
आग होते है वो आँसू जो पिये जाते हैं।

Jabt-e-Gam - Gam Shayari

Leave a Comment