Jal Ke Shama Khamosh

Jal Ke Shama Khamosh

Yeh Silsila Ulfat Ka Chalta Hi Reh Gaya,
Dil Ki Chah Me Dilbar Machalta Hi Reh Gaya,
Kuchh Der Ko Jal Ke Shama Khamosh Ho Gayi,
Parwana Magar Sadiyon Tak Jalta Hi Reh Gaya.

ये सिलसिला उल्फत का चलता ही रह गया,
दिल कि चाह में दिलबर मचलता ही रह गया,
कुछ देर को जल के शमा खामोश हो गयी,
परवाना मगर सदियों तक जलता ही रह गया।

Leave a Comment