Jara Si Der Ko Aaye

Jara Si Der Ko Aaye

Fursat Kise Hai Zakhmon Ko Sarahane Ki,
Nigahen Badal Jaati Hain Apne Beganon Ki,
Tum Bhi Chhodkar Chale Gaye Hamen,
Ab Tamanna Na Rahi Kisi Se Dil Lagane Ki.

फुर्सत किसे है ज़ख्मों को सरहाने की,
निगाहें बदल जाती हैं अपने बेगानों की,
तुम भी छोड़कर चले गए हमें,
अब तमन्ना न रही किसी से दिल लगाने की।

Jakhmo Ko Sarahne Ki - Very Sad Shayari

Jara Si Der Ko Aaye Khwab Aankhon Mein,
Fir Uske Baad Musalsal Azaab Aankhon Mein,
Wo Jiske Naam Ki Nisbat Se Roshn Tha Wajood,
Khatak Raha Hai Wahi Aaftaab Aankhon Mein.

जरा सी देर को आये ख्वाब आँखों में,
फिर उसके बाद मुसलसल आज़ाद आँखों में,
वो जिसके नाम की निश्बत से रौशन था वजूद,
खटक रहा है वही आफताब आँखों में।

Kabhi Koi Apna Anjaan Ho Jaata Hai,
Kabhi Anjaan Se Pyar Ho Jaata Hai,
Ye Jaruri Nahi Ki Jo Khushi De Usi Se Pyar Ho,
Dil Todne Walo Se Bhi Pyar Ho Jata Hai.

कभी कोई अपना अनजान हो जाता है,
कभी अनजान से प्यार हो जाता है,
ये जरुरी नही कि जो ख़ुशी दे उसी से प्यार हो,
दिल तोड़ने वालो से भी प्यार हो जाता है।

Leave a Comment