Jheel Si Aankhon Me

Jheel Si Aankhon Me

Log Kehte Hain Jinhein
Neel-Kanwal Wo To Qateel,
Shab Ko Inn Jheel Si
Aankhon Me Khila Karte Hain.

लोग कहते हैं जिन्हें
नील-कंवल वो तो क़तील,
शब् को इन झील सी
आँखों में खिला करते हैं।

Aankhein Shayari, Jheel Si Aankhon Me

Aag Suraj Me Hoti Hai,
Jalna Dharti Ko Padta Hai,
Mohabbat Aankhen Karti Hain,
Tadapna Dil Ko Padta Hai.

आग सूरज में होती है,
जलना धरती को पड़ता है,
मोहब्बत आँखें करती हैं,
तडपना दिल को पड़ता है।

Aankhen Kholu To Chehra Tumhara Ho,
Band Karoo To Khwaab Tumhara Ho,
Mar Bhi Jaao To Gam Nahi,
Agar Kafan Ke Badle Aanchal Tumhara Ho.

आँखे खोलू तो चेहरा सामने तुम्हारा हो,
बंद करू तो ख्वाब तुम्हारा हो,
मर जाऊ तो भी कोई गम नही,
अगर कफ़न के बदले आँचल तुम्हारा हो।

Leave a Comment