Jinka Hua Ishq Muqammal

Jinka Hua Ishq Muqammal

Farishte Hi Honge Jinka Hua Ishq Muqammal,
Insaano Ko To Humne Sirf Barbaad Hote Dekha Hai.

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल,
इंसानों को तो हमने सिर्फ बरबाद होते देखा है।

Jinka Hua Ishq Mukammal - Ishq Shayari

Ishq Ki Gahraeeyon Me Khoobsoorat Kya Hai,
Main Hoon, Tum Ho Aur Kuchh Ki Zarurat Kya Hai?

इश्क की गहराईयों में खूबसूरत क्या है,
मैं हूँ, तुम हो और कुछ की ज़रुरत क्या है?

Wo Ishq Tha Ya Bavaal Tha,
Ye Jaan-Leva SaWaal Tha.

वो इश्क़ था या बवाल था,
ये जान-लेवा सवाल था।

Gunaah Hai Gar Ishq To,
Kabool Hai Mujhe Har Saza Ishq Ki.

गुनाह है गर इश्क तो,
कबूल है मुझे हर सज़ा इश्क की।

Leave a Comment