Jise Bhule Wo Yaad Aaya

Jise Bhule Wo Yaad Aaya

Ye Mohabbat Bhi Kya Rog Hai Faraz,
Jise Bhule Wo Sada Yaad Ayaa…

ये मुहब्बत भी क्या रोग है फ़राज़,
जिसे भूले वो सदा याद आया।

Mere Sabr Ki Intihan Kya Poochhte Ho ‘Faraz’
Wo Mere Samne Ro Raha Hai Kisi Aur Ke Liye.

मेरे सब्र की इन्तेहाँ क्या पूछते हो ‘फ़राज़’
वो मेरे सामने रो रहा है किसी और के लिए।

Ye Ishq Banane Wale Ki Main Taarif Karta Hun,
Maut Bhi Ho Jati Hai Aur Katil Bhi Pakda Nahin Jata.

ये इश्क़ बनाने वाले की मैं तारीफ करता हूँ,
मौत भी हो जाती है और क़ातिल भी पकड़ा नही जाता।

Thoda To Aitbaar Kiya Hota Tune Mujhpar,
Muhabbat Ki Hai Tumse Koi Frebi Nahin.

थोड़ा तो ऐतबार किया होता तूने मुझपर,
मुहब्बत की है तुमसे कोई फरेबी नहीं।

Na Peshee Hogi… Na Gawah Hoga,
Jo Uljhega Mohabbat Se Wo Sirf Tabah Hoga.

ना पेशी होगी… ना गवाह होगा,
जो उलझेगा मोहब्बत से वो सिर्फ तबाह होगा।

Leave a Comment