Jurf Ka Imtehaan

Jurf Ka Imtehaan

Mukhatib Hain Saqi Ki Mkhmoor Nazre,
Mere Jurf Ka Imtehaan Ho Raha Hai.

मुखातिब हैं साकी की मखमूर नज़रे,
मेरे जुर्फ़ का इम्तहान हो रहा है।

Aata Hai Jee Me Saaqi-E-Mah-Vash Pe Baar Baar,
Lab Choom Lun Tera Lab-E-Paimaana Chhod Kar.

आता है जी में साक़ी-ए-मह-वश पे बार बार,
लब चूम लूँ तिरा लब-ए-पैमाना छोड़ कर।

Tajagi Mizaaj Me Aur Rangat Jaise Pighla Hua Sona,
Yahan Tareef Teri Nahin Hai Mere Saki, Ye Jikr Sharab Ka Hai.

ताजगी मिज़ाज में और रंगत जैसे पिघला हुआ सोना,
यहाँ तारीफ तेरी नहीं है मेरे साकी, यह जिक्र शराब का है।

Leave a Comment