Kaanto Ki Nonk Se

Kaanto Ki Nonk Se

Usne Humare Zakhmo Ka Kuchh Yun Kiya ilaaj,
Marham Bhi Gar Lagaya To Kaanto Ki Nonk Se.

उसने हमारे जख्मों का कुछ यूँ किया इलाज,
मरहम भी गर लगाया तो काँटों की नोंक से।

Kaanto Ki Nonk Se - Dard Shayari

Hawa Ki Sohabat Me Jab Shama Bujhne Laga,
Taseer-E-Khaak Me Phir Dard Sulagane Laga.

हवा की सोहबत में जब शमा बुझने लगा,
तासीर ए ख़ाक में फिर दर्द सुलगने लगा।

Beintiha Dard Ke Tamaam Faisalon Par,
Zindagi Phir Tanha Jakhm Kuredati Rahi.

बेइंतिहा दर्द के तमाम फैसलों पर,
जिन्दगी फिर तन्हा जख्म कुरेदती रही।

Chiragon Ki Wafa To Khush Hai Lekin,
Raushni Se Bachake Koi Andhera Gamgeen Hai Mujhme.

चिरागों की वफा तो खुश है लेकिन,
रौशनी से बचके कोई अँधेरा गमगीन है मुझमें।

Leave a Comment