Kaash Itne Gaur Se

Kaash Itne Gaur Se

Nahi Basti Kisi Aur Ki Surat Ab Inn Aankhon Mein,
Kaash Ki Humne Tujhe Itne Gaur Se Na Dekha Hota.

नहीं बस्ती किसी और की सूरत अब इन आँखों में,
काश की हमने तुझे इतने गौर से न देखा होता।

Leave a Comment