Kaash Koi Ishq Ka Jaam

Kaash Koi Ishq Ka Jaam

Kaash Humein Bhi Koi Samjhane Wala Hota,
To Aaj Hum Itne Nasamjh Na Hote,
Kaash Koi Ishq Ka Jaam Pilane Wala Hota,
To Aaj Hum Bhi Is Sharab Ke Deewane Na Hote.

काश हमे भी कोई समझने वाला होता,
तो आज हम इतने नासमझ न होते,
काश कोई इश्क का जाम पिलाने वाला होता,
तो आज हम भी इस शराब के दीवाने न होते।

Kaash Shayari, Kaash Koi Ishq Ka Jaam

Vaadein To Hazaron Kiye The Usne,
Kaash Ek Waada To Usne Nibhaya Hota,
Maut Ka Kisko Pata Ki Kab Ayegi,
Par Kaash Yun Zinda Usne Mujhe Maara Na Hota.

वादे तो हजारो किये थे उसने,
काश एक वादा तो उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश यूँ जिंदा उसने मुझे मारा न होता।

Kaash Is Dil Ki Awaz Mein Itna Asar Ho Jaye,
Hum Apko Yaad Karein, Aur Aapko Khabar Ho Jaye,
Khuda Se Maangte Hain Ki Aap Jise Bhi Chaho,
Woh Zindagi Ki Raah Mein Apka Humsafar Ho Jaye.

काश इस दिल कि आवाज ए इतना सर हो जाए,
हम आपको याद करे और आपको खबर हो जाए,
खुदा से मांगते हैं कि आप जिसे भी चाहो,
वो ज़िन्दगी कि राह में आपका हमसफ़र हो जाए।

Leave a Comment