Kaash Teri Wafa

Kaash Teri Wafa

Tere Husn Pe Tareefon Bhari Kitaab Likh Deta,
Kaash Teri Wafa Tere Husn Ke Barabar Hoti.

तेरे हुस्न पर तारीफों भरी किताब लिख देता,
काश तेरी वफ़ा तेरे हुस्न के बराबर होती।

Kaash Shayari, Kaash Teri Wafa

Khushiya To Kab Ki Rooth Gayi Hain Kaash Ki,
Is Zinadgi Ko Bhi Kisi Ki Najar Lag Jaaye

खुशियाँ तो कब की रूठ गयी हैं काश की,
इस ज़िन्दगी को भी किसी की नज़र लग जाये।

Upar Wale Ne Kitne Logo Ki Takdeer Sanwaari Hai,
Kaash Wo Ek Bar Mujhe Bhi Keh De Ke Aaj Teri Baari Hai.

ऊपर वाले ने कितने लोगो की, तकदीर संवारी है,
काश वो एक बार मुझे भी कह दे के आज तेरी बारी है।

Leave a Comment