Kaash Tu Samajh Sakti

Kaash Tu Samajh Sakti

Kaash Tu Samajh Sakti
Mohabbat Ke Usoolo Ko,
Kisi Ki Saanson Me Samakar
Use Tanha Nahi Karte.

काश तू समझ सकती
मोहब्बत के उसूलो को,
किसी की साँसों में समाकर
उसे तन्हा नहीं करते।

Kaash Shayari, Kaash Tu Samajh Sakti

Kitne Aansu Baha Diye Hain
Iss Char Din Ki Mohabbat Mein,
Kaash… Sajde Mein Bahate
To Aaj Gunahoan Se Paak Hote.

कितने आँसू बहा दिए हैं
इस चार दिन की मोहब्बत में,
काश… सजदे में बहाते
तो आज गुनाहों से पाक होते।

Sub Kuch Hasil Nahi Hota
Zindagi Me Yahan,
Kisi Ka ‘Kaash’ To Kisi Ka ‘Agar’
Rah Hi Jaata Hai,

सब कुछ हासिल नहीं होता
ज़िन्दगी में यहाँ,
किसी का ‘काश’ तो किसी का ‘अगर’
रह ही जाता है।

Leave a Comment