Kaash Ye Khamoshi

Kaash Ye Khamoshi

Kaash Tum Mujhe Ek Khat Likh Dete,
Mujhme Kya-Kya Thi Kami Yeh To Likh Dete,
Mere Dil Se Tumne Nafrat Kyu Ki,
Nafrat Ki Hi Mujhe Koi Wajah To Likh Dete.

काश तुम मुझे एक खत लिख देते,
मुझमे क्या-क्या थी कमी यह तो लिख देते,
मेरे दिल से तुमने नफरत क्यूँ की,
नफरत की ही मुझे कोई वजह तो लिख देते।

Kaash Shayari, Tum Mujhe khat Likh Dete

Kaash Yeh Dil Sheeshe Ka Bana Hota,
Chot Lagti To Beshak Yeh Fanah Hota,
Par Sunte Jab Wo Aawaz Iske Tutne Ki,
Tab Unhein Bhi Apne Gunah Ka Ehsaas Hota।

काश ये दिल शीशे का बना होता,
चोट लगती तो बेशक ये फ़ना होता,
पर सुनते जब वो आवाज इसके टूटने की,
तब उन्हें भी अपने गुनाह का एहसास होता।

Kaash Aansuon Ke Sath Yaaden Bah Jati,
Kaash Ye Khamoshi Sab Kuch Kah Jati,
Kaash Kismat Tumne Likhi Hoti,
To Shayad Meri Kismat Me Pyar Ki Kami Na Hoti.

काश आँसुओं के साथ यादें बह जाती,
काश ये ख़ामोशी सब कुछ कह जाती,
काश किस्मत तुमने लिखी होती,
तो शायद मेरी किस्मत में प्यार की कमी न रह जाती।

Leave a Comment