Kabhi To Apne Andar

Kabhi To Apne Andar

Kabhi To Apne Andar Bhi Khamiyaan Dhunde,
Zamana Mere Girebaan Me Jhaankta Kyu Hai?

कभी तो अपने अन्दर भी कमियां ढूंढे,
ज़माना मेरे गिरेवान में झाकता क्यों है।

Leave a Comment