Kahin Bhi Haadsa Gujre

Kahin Bhi Haadsa Gujre

Jahan Dariya Kahin Apne Kinare Chhod Deta Hai,
Koyi Uthhta Hai Aur Tufan Ka Rukh Mod Deta Hai,
Mujhe Be-Dast-o-Pa Kar Bhi Khauf Uska Nahi Jata,
Kahin Bhi Haadsa Gujre Wo Mujh Se Jod Deta Hai.

जहाँ दरिया कहीं अपने किनारे छोड़ देता है,
कोई उठता है और तूफान का रुख मोड़ देता है,
मुझे बे-दस्त-ओ-पा कर भी खौफ उसका नहीं जाता,
कहीं भी हादसा गुजरे वो मुझ से जोड़ देता है।

Leave a Comment