Kahne Laga Dard-e-Dil

Kahne Laga Dard-e-Dil

Main Ro Ro Jo Kahne Laga Dard-e-Dil,
Woh Muh Pher Kar Muskurane Lage.

मैं रो रो जो कहने लगा दर्द-ए-दिल,
वो मुँह फेर कर मुस्कराने लगा।

Kahne Laga Dard-e-Dil - Dard Shayari

Wo Jaan Gai Thi, Hame Dard Me Muskraane Ki Aadat Hai,
Wo Roz Naya Jakhm Deti Thi Meri Khushi Ke Liye,

वो जान गयी थी, हमे दर्द में मुस्कराने की आदत हैं,
वो रोज नया जख्म देती थी मेरी ख़ुशी के लिए।

Log Kehte Hain Hum Muskrate Bahut Hain,
Aur Hum Thak Gaye Dard Chhupate Chhupate.

लोग कहते हैं हम मुस्कराते बहुत हैं,
और हम थक गए दर्द छुपाते छुपाते।

Leave a Comment