Kashish Toh Bahut Hai

Kashish Toh Bahut Hai

Khuda Shayari - Kashish Pyar Mein

Kashish Toh Bahut Hai Mere Pyar Mai,
Lekin Koi Hai Pathar Dil Jo Pigalta Nahi,
Agar Mile Khuda To Mangungi Usko,
Suna Hai Khuda Marne Se Pehle Milte Nahi.

कशिश तो बहुत है मेरे प्यार मैं,
लेकिन कोई है पत्थर दिल जो पिघलता नहीं,
अगर मिले खुदा तो माँगूंगी उसको,
सुना है ख़ुदा मरने से पहले मिलते नहीं।

Leave a Comment