Kasoor Har Bar

Kasoor Har Bar

Vaham Se Bhi Aksar Khatm Ho Jate Hain Rishte,
Kasoor Har Bar Galtiyon Ka Nahin Hota,

वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते,
कसूर हर बार गल्तियों का नही होता।

Bhare Bajaar Se Aksar Main Khali Haath Aata Hun,
Kabhi Khwahish Nahi Hoti Kabhi Paise Nahi Hote.

भरे बाजार से अक्सर मैं खाली हाथ आता हूँ,
कभी ख्वाहिश नहीं होती कभी पैसे नहीं होते।

Aaj Tak Us Thakaan Se Dukh Raha Hai Badan,
Ek Safar Kiya Tha Maine Khwahisho Ke Saath.

आज तक उस थकान से दुख रहा है बदन,
एक सफ़र किया था मैंने ख़्वाहिशों के साथ।

Apne Lafzo Par Gaur Kar Ke Bata,
Lafz Kitne The, Aur Teer Kitne?

अपने लफ्ज़ों पर गौर कर के बता,
लफ्ज़ कितने थे, और तीर कितने?

Anjaan Agar Ho To Guzar Kyun Nahin Jate,
Pahchaan Rahe Ho To Thahar Kyun Nahi Jate.

अंजान अगर हो तो गुज़र क्यूँ नहीं जाते,
पहचान रहे हो तो ठहर क्यूँ नही जाते।

Leave a Comment