Kaun Kahta Hai

Kaun Kahta Hai

Kaun Kahta Hai Ki Dil Sirf Seene Me Hota Hai,
Tujhko Likhun To Meri Ungliyan Bhi Dhadkti Hain.

कौन कहता है कि दिल सिर्फ सीने में होता है,
तुझको लिखूँ तो मेरी उंगलियाँ भी धड़कती है।

Shayari On Heart - Tujhko Likhun To

Uske Shiwa Kisi Aur Ko Chahna Mere Bus Me Nahin,
Ye Dil Uska Hai, Apna Hota To Baat Aur Thi.

उसके सिवा किसी और को चाहना मेरे बस में नहीं,
ये दिल उसका है, अपना होता तो बात और थी।

Kuchh Khatakta To Hai Pahlu Me Mere Rah Rah Kar,
Ab Khuda Jaane Teri Yaad Hai Ya Dil Mera.

कुछ खटकता तो है पहलू में मेरे रह रह कर,
अब ख़ुदा जाने तेरी याद है या दिल मेरा।

Lakho Me Chun Ke Hume Kabil Bana Diya,
Jis Dil Ko Tumne Dekh Liya Dil Bana Diay.

लाखों में चुन के हमे क़ाबिल बना दिया तूमने,
जिस दिल को तुमने देख लिया दिल बना दिया।

Sun Dil Ko Torh Ke Jaane Wale Dil Ki Baat Batata Ja,
Ab Main Dil Ko Kya Samjhaun Mujhko Bhi Samjhata Ja.

सुन दिल तोड़ के जाने वाले दिल की बात बताता जा,
अब मैं दिल को क्या समझाऊँ मुझको भी समझाता जा।

Leave a Comment