Ke Log Rone Lage

Ke Log Rone Lage

Kahani Khatm Ho To Kuchh Aise Khatm Ho,
Ke Log Rone Lage Taalian Bajaate Bajaate.

कहानी खत्म हो तो कुछ ऐसे खत्म हो,
के लोग रोने लगे तालियाँ बजाते बजाते।

Hamne Kanton Ko Bhi Badi Narmi Se Chhua Hai Yaaro,
Log Kitne Bedard Hain Phoolon Ko Bhi Masal Dete Hain.

हमने काँटों को भी बड़ी नरमी से छुआ है यारो,
लोग कितने बेदर्द हैं फूलों को भी मसल देते हैं।

Aap Kaanton Ki Baat Karte Ho,
Phool Dil Tod Chuke Hain Hamara.

आप काँटों की बात करते हो,
फूल दिल तोड़ चुके है हमारा।

Waqt Waqt Ki Baat Hai…
Apne Sath Ho To Kante Bhi Sahlaate Hain,
Baki Akele Me To Phool Bhi Chubhte Hain.

वक्त वक्त की बात है…
अपने साथ हो तो काँटे भी सहलाते है,
बाकी अकेले में तो फूल भी चुभते हैं।

Ham To Phoolon Ki Tarah Apni Aadat Se Bebas Hain,
Todne Wale Ko Bhi Khushboo Ki Saja Dete Hain.

हम तो फूलों की तरह अपनी आदत से बेबस हैं,
तोड़ने वाले को भी खुशबू की सजा देते हैं।

Leave a Comment