Khamosh Se Alfaaz

Khamosh Se Alfaaz

Ye Jo Khamosh Se Alfaaz Likhe Hai Na,
Padna Kabhi Dhyan Se Cheekhte Kamaal Hai…

ये जो खामोश से अलफ़ाज़ लिखे है न,
पड़ना कभी ध्यान से चीखते कमाल है।

Khamosh Se Alfaaz - Alfaaz Shayari

Leave a Comment