Khamoshi Ko Koi Samjhe

Khamoshi Ko Koi Samjhe

Bheegi Aankho Se Muskurane Ka Maza Aur Hai,
Hanste Hanste Palke Bhigone Ka Maza Aur Hai,
Baat Keh Ke To Koi Bhi Samjh Leta Hai,
Khamoshi Ko Koi Samjhe To Maza Aur Hai.

भीगी आँखों से मुस्कुराने का मजा और है,
हँसते हँसते पलके भिगोने का मजा और है,
बात कह के तो कोई भी समझ लेता है,
खामोशी को कोई समझे तो मजा और है।

Khamoshi Ko Koi Samjhe - Khamoshi Shayari

Unhen Chahna Hamari Kamajori Hai,
Unse Kah Nahin Pana Hamari Majboori Hai,
Wo Kyon Nahin Samjhte Hamari Khamoshi Ko,
Kya Pyaar Ka Izahaar Karna Jaruri Hai.

उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है,
उनसे कह नहीं पाना हमारी मजबूरी है,
वो क्यों नहीं समझते हमारी खामोशी को,
क्या प्यार का इज़हार करना जरूरी है।

Har Khamoshi Ka Matlab Inkaar Nahin Hota,
Har Nakamyabi Ka Matlab Haar Nahin Hota,
To Kya Hua Agar Ham Tumhen Na Pa Sake,
Sirf Paane Ka Matlab Pyar Nahin Hota.

हर खामोशी का मतलब इंकार नहीं होता,
हर नाकामयाबी का मतलब हार नहीं होता,
तो क्या हुआ अगर हम तुम्हें न पा सके,
सिर्फ पाने का मतलब प्यार नहीं होता।

Leave a Comment