Khamoshi Samjhoge Nahi

Khamoshi Samjhoge Nahi

Chalo Ab Jane Bhi Do Yaar Kya Karoge Dastaan Sunkar,
Khamoshi Tum Samjhoge Nahi Aur Bayan Humse Hoga Nahi.

चलो अब जाने भी दो यार क्या करोगे दास्तान सुनकर,
खामोशी तुम समझोगे नहीं और बयां हमसे होगा नहीं।

Khamoshi Samjhoge Nhai - Khamoshi Shayari

Jab Se Ye Akl Jawan Ho Gayi Hai Janaab,
Tab Se Khamoshi Hi Hamari Jubaan Ho Gayi. 

जब से ये अक्ल जवान हो गयी है जनाब,
तब से ख़ामोशी ही हमारी जुबान हो गयी।

Uski Sachchai Jab Se Hamare Paas Aayi,
Hamare Labon Ko Tab Se Khamoshi Hi Raas Aayi 

उसकी सच्चाई जब से हमारे पास आयी,
हमारे लबों को तब से ख़ामोशी ही रास आयी।

Kya Kahoon Main Kahne Ko Shabd Nahin Mil Rahe,
Chalo Aaj Khamoshi Hi Mahsoos Kar Lo Hamari.

क्या कहूँ मैं कहने को शब्द नहीं मिल रहे,
चलो आज खामोशी ही महसूस कर लो हामारी।

Bhool Gaye Hain Lafz Mere Labon Ka Pata Jaise,
Ya Phir Khamoshiyon Ne Jahen Me Pahra Laga Rakha Hai.

भूल गए हैं लफ्ज़ मेरे लबों का पता जैसे,
या फिर खामोशियों ने जहन में पहरा लगा रखा है।

Leave a Comment