Kholne Se Pehle Botal

Kholne Se Pehle Botal

Tum Kya Jano Sharab Kaise Pilayi Jati Hai,
Kholne Se Pehle Botal Hilayi Jati Hai,
Phir Aawaz Lagayi Jati Hai Aa Jao Tute Dil Walo,
Yehan Darde-Dil Ki Dawa Pilayi Jati Hai.

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलायी जाती है,
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है,
फिर अबाज़ लगाई जाती है आ जाओ टूटे दिल वालो,
यहाँ दर्दे-दिल की दबा पिलाई जाती है।

Gam Is Kadar Mila Ki Ghabra Ke Pi Gaye,
Khushi Thodi Si Mili To Mila Ke Pi Gaye,
Yun To Na The Janm Se Peene Ki Aadat,
Sharab Ko Tanha Dekha To Taras Kha Ke Pi Gaye.

ग़म इस कदर मिला कि घबरा के पी गए,
ख़ुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गए,
यूँ तो ना थे जन्म से पीने की आदत,
शराब को तनहा देखा तो तरस खा के पी गए।

Tumhari Aankhon Ki Tauheen Hai Zara Socho
Tumhara Chahane Wala Sharab Peeta Hai
Rishton Ko Sambhalte Sambhalte Thakan Si Hone Lagi Hai,
Roz Koi Na Koi Naraj Ho Jaata Hai.

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है
रिश्तों को सम्भालते सम्भालते थकान सी होने लगी है,
रोज़ कोई ना कोई नाराज हो जाता है।

Leave a Comment