Khud Ko Akela Sa

Khud Ko Akela Sa

Na Jane Kyun Khud Ko Akela Sa Paya Hai,
Har Ek Rishte Me Khud Ko Gawaya Hai,
Shayad Koi To Kami Hai Mere Wajood Me,
Tabhi Har Kisi Ne Hume Yu Hi Thukraya Hai.

न जाने क्यों खुद को अकेला सा पाया है,
हर एक रिश्ते में खुद को गवाया है,
शायद कोई तो कमी है मेरे वजूद में,
तभी हर किसी ने हमे यूँ ही ठुकराया है।

Na Jane Kyu Khud Ko - Alone Shayari

Leave a Comment