Kis Shahar Me Sher

Kis Shahar Me Sher

Cheekhe Bhi Yehan Koi Gaur Se Sunta Nahi Faraz,
Are Kis Shahar Me Tum Sher Sunaane Chale Aaye.

चीखें भी यहाँ कोई गौर से सुनता नहीं फ़राज़,
अरे किस शहर में तुम शेर सुनाने चले आये।

Leave a Comment