Kishton Me Khudkushi

Kishton Me Khudkushi

Ek Pal Me Ek Sadi Ka Maza Hum Se Puchhiye,
Do Din Ki Zindagi Ka Maza Hum Se Puchhiye.

Bhule Hain Unhe Rafta Rafta Muddaton Me Hum,
Kishton Me Khudkushi Ka Maza Hum Se Puchhiye.

Aagaz-e-Aashiqi Ka Maza Aap Janiye,
Anjam-e-Aashiqi Ka Maza Hum Se Puchhiye.

Jalate Diyon Me Jalate Gharon Jaise Zau Kahan,
Sarkar Roshni Ka Maza Hum Se Puchhiye.

Wo Jann Hi Gaye Ki Hamein Unn Se Pyar Hai,
Aankhon Ki Mukhbari Ka Maza Hum Se Puchhiye.

Hansane Ka Shauq Hum Ko Bhi Tha Aap Ki Tarah,
Hansiye Magar Hansi Ka Maza Hum Se Puchhiye.

Hum Tauba Kar Ke Mar Gaye Bemaut Ai ‘Khumar’,
Tauhin-e-Maikashi Ka Maza Hum Se Puchhiye.

एक पल में एक सदी का मज़ा हम से पूछिए,
दो दिन की ज़िन्दगी का मजा हम से पूछिए।

भूले हैं उन्हें रफ्ता रफ्ता मुद्दतों में हम,
किस्तों में खुदखुशी का  मजा हम से पूछिए।

आगाज-ए-आशिकी का मजा आप जानिए,
अंजाम-ए-आशिकी का मजा हम से पूछिए।

जलाते दीयों में जलाते घरों जैसे जाऊ कहाँ,
सरकार रौशनी का मजा हम से पूछिए।

वो जान ही गए की हमे उन से प्यार है,
आँखों की मुखबारी का मजा हम से पूछिए।

हंसाने का शौक हम को भी था आप की तरह,
हंसिये मगर हँसी का मजा हमसे पूछिए।

हम तौबा कर के मर गए बेमौत ऐ ‘खुमार’,
तौहीन-ए-मैकशी का मजा हम से पूछिए।

Leave a Comment