Koi Fark Nahin Padta

Koi Fark Nahin Padta

Meri Khamoshi Se Kisi Ko Koi Fark Nahin Padta,
Aur Shikayat Me Do Lafj Kah Du To Wo Chubh Jate Hain.

मेरी खामोशी से किसी को कोई फर्क नही पड़ता,
और शिकायत में दो लफ़्ज कह दूं तो वो चुभ जाते हैं।

Ek Umr Guzari Hai Hamne Tumhari Khamoshi Padhte Hue,
Ek Umr Guzar Denge Tumhen Mahsoos Karte Hue.

एक उम्र ग़ुज़ारी है हमने तुम्हारी ख़ामोशी पढते हुए,
एक उम्र गुज़ार देंगे तुम्हें महसूस करते हुए।

Khamoshi Chhupati Hai… Aib Aur Hunar Donon,
Shakhsiyat Ka Andaza Guftagun Se Hota Hai.

ख़ामोशी छुपाती है… ऐब और हुनर दोनों,
शख्सियत का अंदाज़ा गुफ्तगू से होता है।

Kabhi Sawan Ke Shor Ne Madhosh Kiya Tha Mausam,
Aaj Patajhad Me Har Darkht Khamosh Khada Hai.

कभी सावन के शोर ने मदहोश किया था मौसम,
आज पतझड़ में हर दरख़्त… खामोश खड़ा है।

Leave a Comment