Koi Hume Na Mila

Koi Hume Na Mila

Kya Ajeeb Khel Raha Hai Iss Mohabbat Ka Bhi,
Kisi Ko Hum Na Mile Aur Koi Hume Na Mila.

क्या अजीब खेल रहा है इस मोहब्बत का भी,
किसी को हम न मिले और कोई हमें न मिला।

Koi Hume Na Mila - Sad Shayari

Vaham Tha Ki Sara Baag Apna Hai Tufaan Ke Baad,
Pata Chala Sookhe Patton Par Bhi Hak Hawaon Ka Tha.

वहम था कि सारा बाग अपना है तूफान के बाद,
पता चला सूखे पत्तों पर भी हक हवाओं का था।

Us Bulandi Se Tumne Navaaja Kyon Tha
Gir Kar Main Toot Gaya Kaanch Ke Bartan Ki Tarah

उस बुलंदी से तुमने नवाजा क्यों था
गिर कर मैं टूट गया कांच के बर्तन की तरह।

Hamne Tumhen Us Din Se Aur Zyaada Chaaha Hai,
Jabase Maaloom Hua Ke Tum Hamare Hona Nahi Chaahte.

हमने तुम्हें उस दिन से और ज़्यादा चाहा है,
जबसे मालूम हुआ के तुम हमारे होना नही चाहते।

Leave a Comment