Koi Inayat Nahi Ki

Koi Inayat Nahi Ki

Na Koi ilzam, Na Koi Tanz, Na Koi Ruswai Mir,
Din Bahut Ho Gaye Yaar Ne Koi Inayat Nahi Ki.

न कोई इल्ज़ाम, न कोई तन्ज़, न कोई रुसवाई मीर,
दिन बहुत गए यार ने कोई इनायत नहीं की।

Subah Hoti Hai Shaam Hoti Hai,
Umra Yun Hi Tamaam Hoti Hai.

सुबह होती रही शाम होती रही
उम्र यूँ ही तमाम होती रही।

Patta Patta, Boota Boota, Haal Hamara Jane Hai,
Jane Na Jane Gul Hi Na Jane, Baagh To Sara Jane Hai.

पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल हमारा जाने है,
जाने न जाने गुल ही न जाने बाग़ तो सारा जाने है।

Le Saans Bhi Ahista Ki Nazuk Hai Bahut Kaam,
Afaq Ki Is Kargah-e-shishagari Ka.

ले साँस भी आहिस्ता कि नाज़ुक है बहुत काम,
आफ़ाक़ की इस कारगह-ए-शीशागरी का।

Raah-e-duur-e-ishq Men Rota Hai Kya
Aage Aage Dekhiye Hota Hai Kya

राह-ए-दूर-ए-इश्क़ में रोता है क्या,
आगे आगे देखिए होता है क्या।

Nazuki UsKe Lab Ki Kya Kahiye,
Pankhuḍi Ik Gulab Ki Si Hai.

नाज़ुकी उसके लब की क्या कहिए,
पंखुड़ी इक गुलाब की सी है।

Leave a Comment