Koyi Maujood Hai Mujhme

Koyi Maujood Hai Mujhme

Khak Udti Hai Raat Bhar Mujh Me,
Kaun Phirta Hai Dar-Ba-Dar Mujh Me,
Mujh Ko Mujh Me Jagah Nahi Milti,
Koyi Maujood Hai Iss Kadar Mujh Me.

खाक उड़ती है रात भर मुझ में,
कौन फिरता है दर-बा-दर मुझ में,
मुझ को मुझ में जगह नहीं मिलती,
कोई मौजूद है इस कदर मुझ में।

Leave a Comment