Kuchh Kashtiya Doob Bhi

Kuchh Kashtiya Doob Bhi

Jaruri To Nahi Jeene Ke Liye Sahara Ho,
Jaruri To Nahi Hum Jiske Hain Wo Humara Ho,
Kuchh Kashtiya Doob Bhi Jaya Karti Hai,
Jaruri To Nahi Har Kashti Ka Kinara Ho.

जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिसके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती है,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

Leave a Comment