Kuchh Rishte Umr Bhar

Kuchh Rishte Umr Bhar

Kuchh Rishte Umr Bhar Agar
Benaam Rahe To Achchha Hai,
Aankho Aankho Me Hi Kuchh
Paigaam Rahe To Achchha Hai.

कुछ रिश्ते उम्र भर अगर
बेनाम रहें तो अच्छा है,
आँखों आँखों में ही कुछ
पैगाम रहे तो अच्छा है।

Aashayen Aisi Hon Jo Manjil Tak Le Jaayen,
Manjil Aisi Ho Jo Jeevan Jeena Sikha De,
Jeevan Aisa Ho Jo Rishton Ki Kadr Kare,
Aur Rishte Aise Hon Jo Yaad Karne Ko Majboor Kar De.

आशाएं ऐसी हों जो मंज़िल तक ले जाएं,
मंज़िल ऐसी हो जो जीवन जीना सिखा दे,
जीवन ऐसा हो जो रिश्तों की कदर करे,
और रिश्ते ऐसे हों जो याद करने को मज़बूर कर दें।

Leave a Comment