Kuchh To Baat Hai

Kuchh To Baat Hai

Kuchh To Baat Hai Teri Fitrat Me Ai Dost Varna,
Tujhe Yaad Karne Ki Khata Hum Baar Baar Na Karte.

कुछ तो बात है तेरी फितरत में ऐ दोस्त,
तूझे याद करने की खता हम बार बार न करते।

Dosto Se Bichhad Ke Yeh Ehsaas Hua Ghalib,
The To Kamine Lekin Raunak Bhi Unhi Se Thi.

दोस्तों से बिछड़ के यह एहसास हुआ, ग़ालिब,
थे तो कमीने लेकिन रौनक भी उन्ही से थी।

dostishayari

Ai Dost Mat Dhoodh Kamjoriyan Mujh Me,
Tu Bhi To Shamil Hai Meri Kamjoriyon Me.

ऐ दोस्त मत ढूढ़, कमजोरियां मुझमें,
तू भी तो शामिल है, मेरी कमजोरियों में।

Zindagi Me Hamesha Naye Dost Milenge,
Kahin Jyada To Kahi Kam Milenge,
Aitbaar Jara Soch Samajhkar Kar Karna,
Mumkin Nahi Tumhe Har Jagah Hum Milenge.

ज़िन्दगी में हमेशा नए दोस्त मिलेंगे,
कही ज्यादा तो कही कम मिलेंगे,
एतबार जरा सोचकर करना समझकर,
मुमकिन नही तुम्हें हर जगह हम मिलेंगे।

Leave a Comment