Kuchh Tumhari Nigaah, Nigaah Shayari Collection

Kuchh Tumhari Nigaah, Nigaah Shayari Collection

Kuchh Tumhari Nigaah Kafir Thi,
Kuchh Mujhe Bhi Kharaab Hona Tha.

कुछ तुम्हारी निगाह काफिर थी,
कुछ मुझे भी खराब होना था।

Aankhon Par Teri Nigahon Ne Dstkhat Kya Diye,
Humne Sanso Ki Wasiyat Tumhare Naam Kar Di.

आँखों पर तेरी निगाहों ने दस्तख़त क्या दिए,
हमने साँसों की वसीयत तुम्हारे नाम कर दी।

Aankhein Shayari, Kuchh Tumhari Nigaah

Ahmad Faraz Nigaah Shayari-

Tumhari Ek Nigah Se Qatal Hote Hai Log “Faraz”
Ek Nazar Hum Ko Bhi Dekh Lo Ke Tum Bin Zindagi Achchi Nahin Lagti.

तुम्हारी एक निगाह से कतल होते हैं लोग “फ़राज़”
एक नज़र हम को भी देख लो के तुम बिन ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती।

Us Ki Nigaah Mein Itna Asar Tha ‘Faraz’
Khareed Li Usne Ek Nazar Mein Zindagi Hamari.

उस की निगाह में इतना असर था ‘फ़राज़’
खरीद ली उसने एक नज़र में ज़िन्दगी हमारी।

Sau Baar Marna Chaha Nigahon Mein Doob Kar ‘Faraz’
Wo Nigah Jhuka Lete Hain Humein Marne Nahin Dete

सौ बार मरना चाहा निगाहों में डूब कर ‘फ़राज़’
वो निगाह झुका लेते हैं हमें मरने नहीं देते।

Aankhein Shayari, Wo Nigaah Jhuka Lete Hain

Majrooh Sultanpuri Nigaah Shayari-

Mili Jab Unse Nazar, Bas Raha Tha Ik Jahan,
Hati Nigaahe To Charo Taraf The Veerane.

मिली जब उनसे नज़र, बस रहा था एक जहां
हटी निगाह तो चारों तरफ थे वीराने।

Leave a Comment