Kya Iss Tarah Saath

Kya Iss Tarah Saath

Dil Ki Mehfil Me Bulaya Hai Kisi Ne,
Khud Bula Kar Fir Sataya Hai Kisi Ne,
Jab Tak Jali Shama Machalta Raha Parwana,
Kya Iss Tarah Saath Nibhaya Hai Kisi Ne.

दिल की महफ़िल में बुलाया है किसी ने,
खुद बुला कर सताया है किसी ने,
जब तक जली शमा मचलता रहा परवाना,
क्या इस तरह साथ निभाया है किसी ने।

Leave a Comment