Kya Kahun Deeda e Tar

Kya Kahun Deeda e Tar

Kya Kahun Deeda-e-Tar Ye To Mera Chehra Hai,
Sang Kat Jaate Hain Baarish Ki Jahan Dhaar Gire.

क्या कहूँ दीदा-ए-तार ये तो मेरा चेहरा है,
संग कट जाते हैं बारिश की जहाँ धार गिरे।

Lab Par Aahein Bhi Nahi Aankh Me Aansu Bhi Nahi,
Dil Ne Har Raaz Mohabbat Ka Chhupa Rakha Hai.

लब पे आहें भी नहीं आँख में आँसू भी नहीं
दिल ने हर राज़ मोहब्बत का छुपा रखा है।

Aansu Humare Gir Gaye Unki Nigaah Se,
In Motiyo Ki Ab Koi Keemat Nahi Rahi.

आँसू हमारे गिर गए उनकी निगाह से,
इन मोतियों की अब कोई क़ीमत नहीं रही।

Mere Naam Par Uski Aankhon Me Aansu? Uff,
Na Kar Majaak, Is Baat Par Jaan Bhi Ja Sakti Hai.

मेरे नाम पर उसकी आँखों में आँसू ? उफ्फ़
ना कर मज़ाक, इस बात पर जान भी जा सकती है।

Leave a Comment