Kya Kare Ishq

Kya Kare Ishq

Bin Jale Shama Ke Parwana Jal Nahi Sakta,
Kya Kare Ishq Agar Husn Ki Sabkat Na Kare.

बिन जले शमा के परवाना जल नही सकता,
क्या करे इश्क अगर हुस्न की सबकत ना करे।

Chahe Kitni Bhi Takleef De Ishq,
Par Sukoon Bhi Ishq Se Hi Aata Hai.

चाहे कितनी भी तकलीफ दे इश्क़,
पर सुकून भी इश्क़ से ही आता है।

Kya kare Ishq - New Ishq Shayari Hindi

Tumhen Neend Nahin Aati To Koi Aur Bajah Hogi,
Ab Har Aib Ke Liye Kasoorvaar Ishq To Nahin.

तुम्हें नींद नहीं आती तो कोई और वजह होगी,
अब हर ऐब के लिए कसूरवार इश्क तो नहीं।

Mohabbat Ka Ye Ka Kha Ga Hame Hi Kyon Nahi Aata,
Yahaan Jisse Milo Wo Ishq Ke Kisse Sunaata Hai.

मोहब्बत का ये क ख ग हमे ही क्योँ नही आता,
यहाँ जिससे मिलो वो इश्क के किस्से सुनाता है।

Leave a Comment