Kyun Ghabrata Hai

Kyun Ghabrata Hai

Kyun Ghabrata Hai Pagle Dukh Hone Se,
Jeevan To Prarambh Hi Hua Hai Rone Se.

क्यों घबराता है पगले दुःख होने से,
जीवन तो प्रारम्भ ही हुआ है रोने से।

Paise Ko Dimag Me Nahi Jeb Me Rakhna Chahiye,
Rishton Ko Khule Me Nahi Dilon Me Rakhna Chahiye.

पैसे को दिमाग मे नही जेब मे रखना चाहये,
रिश्तों को खुले में नही दिलों में रखना चाहिये।

Himmat Aur Haunsle Buland Hain, Khada Hun Abhi Gira Nahi Hun,
Abhi Jang Baaki Hai, Aur Mai Haara Bhi Nahi Hun.

हिम्मत और हौंसले बुलंद है, खड़ा हूँ अभी गिरा नही हूँ,
अभी जंग बाकी है, और मै हारा भी नही हूँ।

Kaise Kah Dun Thak Gaya Hun Main
Ghar Mein Na Jane Kitno Ka Honsla Hun Main.

कैसे कह दूँ थक गया हूँ मैं
घर में ना जाने कितनो का होंसला हूँ मैं।

Leave a Comment