Kyun Sharminda Karte Ho

Kyun Sharminda Karte Ho

Kyun Sharminda Karte Ho Roj Haal Poochkar,
Haal Hamara Bahi Hai Jo Tumne Bana Rakha Hai.

क्यों शर्मिंदा करते हो रोज़ हाल पूछकर,
हाल हमारा वही है जो तुमने बना रखा है।

Jo Munh Tak Ud Rahi Thi Ab Lipti Hai Paanv Se,
Barish Kya Hui Mitti Ki Fitrat Badal Gayi.

जो मुँह तक उड़ रही थी अब लिपटी है पाँव से,
बारिश क्या हुई मिट्टी की फितरत बदल गई।

Chhup Chhup Ke Jo Aata Hai Abhi Meri Gali Me,
Ik Roz Mere Saath Sar-E-Aam Chalega.

छुप छुप के जो आता है अभी मेरी गली में
इक रोज़ मेरे साथ सर-ए-आम चलेगा।

Na Wo Milti Hai Na Main Rukta Hun,
Pata Nahin Rasta Galat Hai Ya Manzil.

ना वो मिलती है ना मैं रुकता हूँ,
पता नहीं रास्ता गलत है या मंज़िल।

Tujhe Bhoolkar Bhi Na Bhool Payenge Ham,
Bas Yahi Ek Vaada Nibha Payenge Ham.

तुझे भूलकर भी ना भूल पायेंगे हम,
बस यही एक वादा निभा पायेंगे हम।

Leave a Comment