Laakho Zakhm Khaye

Laakho Zakhm Khaye

Mohabbat Me Laakho Zakhm Khaye Humne,
Afsos Unhe Hum Par Aitbar Nahi,
Mat Puchho Kya Gujarti Hai Dil Par,
Jab Wo Kehte Hain Hume Tumse Pyar Nahi.

मोहब्बत में लाखों ज़ख्म खाये हमने,
अफसोश उन्हें हम पर ऐतबार नहीं,
मत पूछों क्या गुजरती है दिल पर,
जब वो कहते है हमें तुमसे प्यार नहीं है।

Lakhon Zakhm Khaye

Naya Dard Ek Aur Dil Me Jaga Kar Chala Gaya,
Kal Fir Wo Mere Sahar Me Aaker Chala Gaya,
Jise Dhoodhta Raha Me Logo Ki Bheed Me,
Mujhse Wo Apne Aap Ko Chhupa Kar Chala Gaya.

नया दर्द एक और दिल में जगा कर चला गया,
कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया,
जिसे ढूंढ़ता रहा मैं लोगों की भीड़ में,
मुझसे वो अपने आप को छुपा कर चला गया।

Yeh Jaruri Nahi Har Shakhs Maseeha Hi Ho,
Pyar Ke Zakhm Amaanat Hain Dikhaya Na Karo,
Shahar-e-Ehsaas Me Pathrav Bahut Hain Mohsin,
Dil Ko Sheeshe Ke Jharokho Me Sajaya Na Karo.

यह जरुरी नहीं हर शख्स मसीहा ही हो
प्यार के जख्म अमानत हैं दिखाया न करो,
शहर-ऐ-एहसास में पथराव बहुत हैं मोसिन,
दिल को शीशे के झरोखों में सजाया न को।

Leave a Comment