Lamah Lamha

Lamah Lamha

Lamah Lamha Saase Khatam Ho Rahi Hain,
Zindagi Maut Ke Pahlu Me So Rahi Hain,
Us Bewafa Se Na Poocho Meri Maut Ki Bajah,
Wo To Zamane Ko Dikahne Ke Liye Ro Rahi Hai.

लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं,
ज़िंदगी मौत के पहलू में सो रही है,
उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह,
वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है।

man on hil

Agar Zindagi Me Judai Na Hoti,
To Kabhi Kisi Ki Yaad Aayi N Hoti,
Saath Hi Gujrta Har Lamha Sayed,
Risto Me Itni Gahrai Na Hoti.

अगर जिंदगी में जुदाई ना होती,
तो कभी किसी की याद आयी ना होती,
साथ ही गुजरता हर लम्हा तो शायद,
रिश्तों में इतनी गहराई ना होती।

Jo Khushi Kareeb Ho Wo Sada Tumhe Naseeb Ho,
Zindagi Ka Har Lamha Sada Tere Liye Haseen Ho,
Jo Tujh Ko Pasand Ho Tumhare Dil Ki Umang Ho,
Tu Jisko Chahe Zindagi Me Wo Sada Tere sang ho.

जो ख़ुशी करीब हो वो सदा तुम्हें नसीब हो,
ज़िंदगी का हर लम्हा सदा तेरे लिए हसीन हो,
जो तुझ को पसंद हो तुम्हारे दिल की उमंग हो,
तू जिसको चाहे ज़िंदगी में वो सदा तेरे संग हो।

Leave a Comment