Lamaha Sadiyon Sa

Lamaha Sadiyon Sa

Junun-E-Ishq Tha To Kat Jaati Thi Raat Khayalo Me,
Saza-E-Ishq Aayi To Har Har Lamaha Sadiyon Sa Lagne Laga.

जूनून-ए-इश्क था तो कट जाती थी रात ख्यालो में,
सजा-ए-इश्क आयी तो हर लम्हा सदियों सा लगने लगा।

Waqt Bitne Ke Baad Aksar Ye Ehsaas Hota Hai,
Ki, Jo Chhut Gaya Wo Lamha Jyada Behtar Tha.

वक़्त बीतने के बाद अक़्सर ये अहसास होता है।
कि, जो छूट गया वो लम्हा ज्यादा बेहतर था।

Ahsaason Ke Kagaz Par Khud Ko Likhta Rahta Hun,
Bure Waqt Ka Lamha Hun, Andha, Goonga, Bahra Hun.

अहसासों के काग़ज पर, ख़ुद को लिखता रहता हूँ,
बुरे वक़्त का लम्हा हूँ, अंधा, गूंगा, बहरा हूँ।

Mahsoos Khud Ko Tere Bina Maine Kabhi Kiya Nahi,
Tu Kya Jaane Lamha Koi Maine Kabhi Jiya Nahi.

महसूस खुद को तेरे बिना मैंने कभी किया नहीं।
तू क्या जाने लम्हा कोई मैने कभी जिया नहीं।

Ek Umr Hai Jo Tere Bagair Gujarni Hai,
Aur Ek Lamha Bhi Tere Bagair Gujarta Nahin.

एक उम्र है जो तेरे बगैर गुज़ारनी है,
और एक लम्हा भी तेरे बगैर गुज़रता नही।

Mujhe Bhi Sikha Do Bhool Jaane Ka Hunar,
Main Thak Gaya Hun Har Lamha Har Saans Tumhen Yaad Karte.

मुझे भी सिखा दो भूल जाने का हुनर,
मैं थक गया हूँ हर लम्हा हर सांस तुम्हें याद करते करते।

Leave a Comment