Log Talashte Hain

Log Talashte Hain

Log Talashte Hain Ki Koi… Fikarmand Ho,
Varna Kaun Theek Hota Hai Yun Haal Poochhne Se.

लोग तलाशते है कि कोई… फिकरमंद हो,
वरना कौन ठीक होता है यूँ हाल पूछने से।

Jiske Lafzon Mein Hame Apana Aks Milta Hai,
Bade Naseebo Se Aisa Koi Shakhs Milta Hai.

जिसके लफ़्ज़ों में हमे अपना अक्स मिलता है,
बड़े नसीबों से ऐसा कोई शख़्स मिलता है।

Wo Mere Haal Pe Roya Bhi Muskuraaya Bhi,
Ajeeb Shakhs Hai Apna Bhi Hai Paraya Bhi.

वो मेरे हाल पे रोया भी मुस्कुराया भी,
अजीब शख़्स है अपना भी है पराया भी।

Mude Mude Se Hain Kitaab-E-Ishk Ke Panne,
Wo Kaun Shakhs Hai Jo Hamen Hamare Baad Padta Hai.

मुड़े मुड़े से हैं किताब-ए-इश्क के पन्ने,
वो कौन शख्स है जो हमें हमारे बाद पड़ता है।

Ye Bhi Agar Khata Hai To Beshaq Huyi Khata,
Apna Samajh Ke Tujhko Pukara Kabhi-Kabhi.

ये भी अग़र ख़ता है तो बेशक़ हुयी ख़ता,
अपना समझ के तुझको पुकारा क़भी-क़भी।

Leave a Comment