Logon Ko Jalaya Jaye

Logon Ko Jalaya Jaye

Aag Lagana Meri Fitrat Me Nahin,
Meri Sadagi Se Log Jale To Mera Kya Kasoor.

आग लगाना मेरी फितरत मे नहीं,
मेरी सादगी से लोग जले तो मेरा क्या कसूर।

Thahar Sake Jo Labon Par Hamare,
Hansi Ke Sivay Majaal Kiski.

ठहर सके जो लबों पर हमारे,
हंसी के सिवाय मजाल किसकी।

Log Wakif Hain Meri Aadton Se,
Rutava Kam Hi Sahi Par Lajabab Rakhta Hun.

लोग वाकिफ हैं मेरी आदतों से,
रुतवा कम ही सही पर लाजबाब रखता हूँ।

Chalo Aaj Fir Thoda Muskuraya Jaye,
Bina Maachis Ke Logon Ko Jalaya Jaye.

चलो आज फिर थोड़ा मुस्कुराया जाये,
बिना माचिस के लोगों को जलाया जाये।

Logo Ko Jalaya Jaye - New Attitude Shayari

Leave a Comment