Mahekti Rahengi Tumhari Yaadein

Mahekti Rahengi Tumhari Yaadein

Sath Humara Chahe Pal Bhar Ka Sahi,
Par Wo Pal Aise Jaise Koi Kal Nahi,
Na Ho Zindagi Me Shayad Fir Milna Humara,
Par Mahekti Rahengi Tumhari Yaadein Sang Yun Hi.

साथ हमारा चाहे पल भर का सही,
पर वो पल ऐसे जैसे कोई कल नहीं,
न हो ज़िन्दगी में शायद फिर मिलना हमारा,
पर महकती रहेंगी तुम्हारी यादें हमारे संग यूँ ही।

girl with a rose, yaadein shayari

Hum To Apne Dil Se Kisi Ki Yaad Mitate Nahi,
Itni Berukhi Se Kisi Ko Bhulate Nahi,
Par Apni Takdeer Hi Aisi Hai,
Hum Lakh Chahkar Bhi Kisi Ko Yaad Aate Nahi.

हम तो अपने दिल से किसी की याद मिटाते नहीं,
इतनी बेरुखी से किसी को भुलाते नहीं,
पर अपनी तक़दीर ही ऐसी है,
हम लाख चाहकर भी किसी को याद आते नहीं।

Maloom Nahin Manzil Khud Mujhe Apni,
Kadam Ruk Jayenge Khud, Safar Jahan Khatm Hoga,
Tumhen Yaad Na Karun Aisa Pal Kabhi Na Aaye,
Bhool Jaun Jis Din Main Wo Din Akhiri Ho Jaaye,

मालूम नहीं मंज़िल खुद मुझे अपनी,
कदम रुक जायेंगे खुद, सफर जहाँ खत्म होगा,
तुम्हें याद न करूँ ऐसा पल न कभी आये,
भूल जाऊं जिस दिन मैं तुम्हें, वो दिन आखिरी हो जाये।

Leave a Comment