Mahekti Shaam Ho Tum

Mahekti Shaam Ho Tum

Fiza Me Mahekti Shaam Ho Tum,
Pyar Ka Chalakta Jaam Ho Tum,
Seene Me Chhupaye Firte Hain,
Meri Zindagi Ka Dusra Naam Ho Tum.

फिजा में महकती शाम हो तुम,
प्यार का छलकता जाम हो तुम,
सीने में छुपाये फिरते हैं,
मेरी जिंदगी का दूसरा नाम हो तुम।

Chhupa Lu Tujhko Apni Baahon Me Iss Tarah,
Ke Hawaa Bhi Gujarne Ki Ijazat Maange,
Mad-hosh Ho Jaaun Tere Pyar Me Iss Tarah,
Ke Hosh Bhi Aane Ki Ijazat Maange.

छुपा लू तुझको अपनी बाँहों में इस तरह,
के हवा भी गुजरने की इजाजत मांगे,
मद-होश हो जाऊं तेरे प्यार में इस तरह,
के होश भी आने की इजाज़त मांगे।

Jane Us Shakhs Ko Kaise Ye Hunar Aata Hai,
Raat Hoti Hai To Aakho Me Utar Aata Hai,
Main Uske Khayalo Se Bach Ke Kahan Jaaun,
Wo Meri Soch Ke Har Raste Pe Nazar Aata Hai.

जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है,
रात होती है तो आंखों में उतर आता है,
मैं उसके ख्यालों से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नज़र आता है। 

Leave a Comment