Mahfile Khud Hi Sajate

Mahfile Khud Hi Sajate

Kmaal Karte Hain Humse Jalan Rakhne Wale,
Mahfile Khud Ki Sajate Hain Aur Charche Humare Karte Hain.

कमाल करते हैं हमसे जलन रखने वाले,
महफ़िलें खुद की सजाते हैं और चर्चे हमारे करते हैं।

Teri Mahfil Me Chale Aaye Hain Kisi Ajnabi Ki Tarah,
Tu Bhi Dekh Rahi Hai Mujhko Kisi Mujrim Ki Tarah.

तेरी महफ़िल में चले आये हैं किसी अजनबी के तरह,
तू भी देख रही है मुझको किसी मुजरिम की तरह।

Tum Karoge Yaad Ek Din Is Pyar Ke Zamane Ko,
Chale Jayenge Jab Hum Kabhi Na Bapas Aane Ko,
Karega Mahfil Mein Jab Jikr Humara Koi,
Tab Aap Bhi Tanhai Dhoodhoge Aansu Bahane Ko.

तुम करोगे याद एक दिन इस प्यार के ज़माने को,
चले जाएँगे जब हम कभी ना वापस आने को,
करेगा महफ़िल मे जब ज़िक्र हमारा कोई,
तब आप भी तन्हाई ढूंढोगे आँसू बहाने को।

Leave a Comment