Manjil Ka Ehsaas

Manjil Ka Ehsaas

Mujhe Maloom Nahin Meri Aankhon Ko Talash Kiski Hai,
Tujhe Dekhta Hun To Manjil Ka Ehsaas Hota Hai.

मुझे मालूम नहीं मेरी आखों को तलाश किसकी है,
तुझे देखता हूँ तो मंजिल का एहसास होता है।

Manzil Ka Ehsaas Shayari

Leave a Comment